Sunday, 07 June, 2020
ब्रेकिंग न्यूज़ :
5 जून को चंद्र ग्रहण - मदन गुप्ता सपाटूबेरोजगारी बढऩे व नशे के कारण बढ़ रही घरेलू हिंसाबॉलीवुड को एक और बड़ा झटका, नहीं रहे सिनेमा के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूरबुलंदशहर में दो पुजारियों की हत्यानहीं रहे मशहूर अभिनेता इरफ़ान खान, मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में थे भर्तीकुमार सानू की बेटी ने हॉलीवुड में कमाया नाम, बॉलीवुड में भी मचा रही हैं धमालहरियाणा ने केंद्र सरकार से मांगा आर्थिक पैकेजगुलाब के फूल के गुणों को जानते हैकैप्टन सरकार ने गुरुद्वारा मजनू का टीला से 250 श्रद्धालुओं को पंजाब लाने के लिए दिल्ली सरकार से सहयोग मांगाराज्य में प्रवेश करने पर पूर्ण चिकित्सा जांच अनिवार्य - मुख्यमंत्री
चंडीगढ़ न्यूज़

बेरोजगारी बढऩे व नशे के कारण बढ़ रही घरेलू हिंसा

May 18, 2020 11:08 AM

चंडीगढ़ - लॉकडाउन के कारण भले ही कोरोना को बढऩे से रोक लिया गया है लेकिन लॉकडाउन के कारण किसी को रोजगार छिन गया है तो कोई नशे का आदि हो गया है। परिणाम स्वरूप घरेलू हिंसा में वृद्धि हो रही है। घरेलू हिंसा के मामलों में हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, दिल्ली,बिहार व महाराष्ट्र टाप राज्यों में शामिल हैं।

सेल्फी विद डॉटर फांउडेशन की ओर से आयोजित वेबिनार में महिलाओं के प्रति हुई घरेलू हिंसा पर बेहद चिंता जाहिर की गई। हरियाणा के जींद जिले के बीबीपुर गांव के पूर्व सरपंच सुनील जागलान इस फाउंडेशन के संयोजक हैं। डिजीटल मोड के जरिये हुए इस राष्ट्रीय वेबिनार में हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड और राजस्थान की महिलाएं तथा बुद्धिजीवी लोग जुड़े।

सुप्रीम कोर्ट की सीनियर एडवोकेट एवं निर्भया कांड में वकील सीमा समृद्धि ने महिलाओं के हितों की रक्षा के लिए आयोजित किए जाने वाली परिचर्चाओं की जरूरत पर जोर दिया। राजस्थान की आईपीएस अधिकारी एवं कोटा की एसपी सिटी डा. अमृता दूहन ने कहा कि सिर्फ पिटाई को घरेलू हिंसा नहीं माना जाना चाहिए। महिलाओं के प्रति गलत भाषा का इस्तेमाल, गलत आचरण और आर्थिक तंगी के साथ अपमान घरेलू हिंसा का पार्ट हैं। ग्रामीण इलाकों में महिला सरपंच समूह बनाकर महिलाओं को उनके हितों के प्रति जागरूक बना सकती हैं।

बालीवुड की फिल्म डायरेक्टर एवं प्रोड्यूसर विभा बख्शी ने कहा कि घरेलू हिंसा किसी एक की प्राब्लम नहीं है। महिलाओं के प्रति पुरुषों को अपनी सोच में बदलाव करना होगा। 90 फीसदी आबादी महिलाओं के प्रति बायस्ड है। आरजे दिव्या ने कहा कि घर पर रहते हुए महिलाओं की बात को अनसुना करना भी घरेलू हिंसा की श्रेणी में आता है।

वरिष्ठ पत्रकार अनुराग अग्रवाल ने रोजगार की चिंता, तनाव और आपसी नासमझी को महिलाओं के प्रति घरेलू हिंसा की वजह बताया। सुप्रीम कोर्ट बार के सदस्य संदीप राठी ने कहा कि अदालतों में अर्जेंट केस की सुनवाई हो रही है। इसलिए किसी महिला को न्याय का इंतजार करने की जरूरत नहीं है। पत्रकार दिनेश भारद्वाज ने कहा कि हरियाणा के ग्रामीण अंचल में आज भी पुरानी परंपराओं के चलते अधिकतर महिलाएं अपने जीवन का अधिकतर हिस्सा लॉकडाउन में ही व्यतीत करती हैं।

गौरव पांचाल ने लाकडाउन में बिकी अवैध शराब को घरेलू हिंसा की बड़ी वजह बताया। महाराष्ट्र की कृष्णा वानखेड़े ने कहा कि महिलाएं भले ही अपने उत्पीडऩ की कहीं रिपोर्ट दर्ज न कराएं, मगर उनका समाधान जरूरी है। इसके लिए काउंसलर नियुक्त किए जाने चाहिएं। मेवात से पूजा ने कहा कि महिला का सोशलेजाइशेन करना ठीक नहीं है। गुरुग्राम की निर्मला ने न्याय के लिए पिछले 13 साल से लड़ी जा रही लड़ाई का जिक्र किया, जिस पर फाउंडेशन के अध्यक्ष सुनील जागलान ने उनकी लड़ाई लडऩे का ऐलान किया।

Have something to say? Post your comment
और चंडीगढ़ न्यूज़
ताजा न्यूज़
अपनी अगली शोर्ट फिल्म ‘कलाबाई फ्रॉम भायखला’ के साथ तैयार है निर्माता शाश्वत जोशी अपनी अगली शोर्ट फिल्म ‘कलाबाई फ्रॉम भायखला’ के साथ तैयार है निर्माता शाश्वत जोशी 5 जून को चंद्र ग्रहण - मदन गुप्ता सपाटू सेलिब्रिटीज ने होप बी~लिट की टीम के फूड डिस्ट्रिब्यूशन प्रोग्राम की तारीफ की बेरोजगारी बढऩे व नशे के कारण बढ़ रही घरेलू हिंसा फिटनेस की दुनिया का एक प्रेरणादायक और उभरता हुआ चेहरा है श्वेता पाल बॉलीवुड को एक और बड़ा झटका, नहीं रहे सिनेमा के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर बुलंदशहर में दो पुजारियों की हत्या नहीं रहे मशहूर अभिनेता इरफ़ान खान, मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में थे भर्ती कुमार सानू की बेटी ने हॉलीवुड में कमाया नाम, बॉलीवुड में भी मचा रही हैं धमाल हरियाणा ने केंद्र सरकार से मांगा आर्थिक पैकेज गुलाब के फूल के गुणों को जानते है
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech