Monday, 24 February, 2020
ब्रेकिंग न्यूज़ :
खांसी के साथ खून आए तो हो सकता है लंग कैंसरएच.आर.क्षेत्र में करीब चार हजार नए एचआर की जरूरत - सुज़ैन रयानशादी के इच्छुक लोग एक बार जरूर पढ़े, यह संदेश आपकी ज़िंदगी भी बदल सकता हैचंडीगढ़ के स्पाइनल रिहैब सेंटर के फ्लोइंग कर्मा बैंड ने पेश किया संगीतपंचकूला की बेबी मॉडल सियारा बनेगी फैशन वीक की शो स्टॉपरजब दुल्हन फेरों के बाद शबद गाने लगी और पूरण चंद बडाली ने दिया आशीर्वादसेंट जॉन हाई स्कूल चंडीगढ़ ने आयोजित की ऑल इंडिया डिबेट4 इंडियन शो, जिसने महिलाओं को सशक्त किया और लोगों की मानसिकता बदल दीमौन रहकर ही सुनी जा सकती है ईश्वर की आवाजचंडीगढ़ के बॉडीबिल्डर भरत सिंह वालिया ने मियामी में जीता मिस्टर यूनिवर्स खिताब
एंटरटेनमेंट न्यूज़

4 इंडियन शो, जिसने महिलाओं को सशक्त किया और लोगों की मानसिकता बदल दी

August 24, 2019 08:36 AM

कुछ ऐसे कंटेंट ड्रिवेन इंडियन टेलीविज़न शो है, जिसने हमारे समाज को उन लोगों से रूबरू कराया है, जिन्होंने पुराने मन:स्थिति को समाप्त करने के लिए एक नई कहानी का निर्माण किया है. सास-बहू ड्रामा शो के बारे में पर्याप्त लिखा गया है जो पुरानी मानसिकता को मजबूत करने के लिए जिम्मेदार हैं. पर अभी भी सब कुछ खत्म नहीं हुआ है. कुछ ऐसे शो हैं जो वास्तव में मनोरंजक होते हुए भी समाज की मानसिकता बदलने में मदद करते हैं, वो भी बिना उपदेश दिए. हम यहां 4 टॉप भारतीय टीवी शो के बारे में बात कर रहे हैं, जिसने प्रभावशाली कहानियों के माध्यम से बदलाव लाने का काम किया.

1. उडान- आईपीएस अधिकारी कंचन चौधरी भट्टाचार्य की सच्ची कहानी पर आधारित, उडान 80 के दशक के अंत में और 90 के दशक की शुरुआत में प्रसारित होने वाले पहले भारतीय टीवी शो में से एक है, जो महिला सशक्तीकरण पर केंद्रित था. यह शो कल्याणी सिंह नाम की एक युवा लड़की की कहानी है, जो हर स्तर पर लैंगिक भेदभाव से जूझते हुए आईपीएस अधिकारी बन जाती है. एक सबल महिला लीड रोल के अलावा, शो में एक पुरुष नायक (शेखर कपूर) भी है, जो महिला अधिकारी को अपने बराबर मानता है. यह शो ऐसे समय में आया जब महिलाओं को वर्दी में देखना असामान्य था और इस शो ने कई महिलाओं को अपने सपनों को पूरा करने के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में काम किया.

2. रजनी- 1994 में राष्ट्रीय प्रसारक दूरदर्शन पर प्रसारित, रजनी हर भारतीय गृहिणी के चेहरे के साथ-साथ उनकी समस्याओं की आवाज बन गई थी. स्वर्गीय प्रिया तेंदुलकर द्वारा अभिनीत मुख्य किरदार रजनी ने गृहिणियों की दिन-प्रतिदिन की समस्याओं और उनके सहज समाधानों को चित्रित किया. रजनी एक घरेलू नाम बन गई. इसने गृहणियों को भ्रष्टाचार से लेकर मूल्यवृद्धि तक की रोजमर्रा की चुनौतियों से निपटने की दिशा में नारी सशक्तिकरण की एक नई समझ दी.

3. शांति- एक औरत कहानी: मंदिरा बेदी द्वारा चित्रित शांति, फिल्म उद्योग के दो प्रभावशाली और धनी भाइयों द्वारा बेटी का बलात्कार किए जाने के बाद एक मां-बेटी की न्याय की लड़ाई की कहानी है. पीड़ित होने के बावजूद, शांति ने बताया कि महिलाएं कैसे एकतरफा लड़ाई लड़ सकती हैं और जीत सकती हैं. इसे पहली बार 1994 में प्रसारित किया गया. इसे आज भी एक प्रतिष्ठित भारतीय टीवी शो के रूप में याद किया जाता है.

4. मैं कुछ भी कर सकती हूं- राष्ट्रीय प्रसारक दूरदर्शन की शिक्षा और सशक्तिकरण की भूमिका को दर्शाते हुए यह शो एक युवा डॉक्टर, डॉ. स्नेहा माथुर की जीवन यात्रा के चारों ओर घूमती है. डॉ. माथुर मुंबई में अपने आकर्षक कैरियर को छोड़कर अपने गांव प्रतापपुर में काम करने का फैसला करती है. यह शो पुरातन सामाजिक मानदंडों और लिंग चयन, यौन और प्रजनन स्वास्थ्य, महिलाओं के स्वास्थ्य व स्वच्छता से संबंधित मुद्दों पर केन्द्रित है. डॉ. स्नेहा माथुर के नेतृत्व में, प्रतापपुर की महिलाएं सामूहिक प्रयास से अपने अधिकारों के लिए लड़ती हैं. 2014 में शुरू हुए इस शो ने अपना दो सीज़न सफलतापूर्वक पूरे कर लिए हैं और वर्तमान में इसका तीसरा सीज़न दिखाया जा रहा है. भारत की महिलाओं, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में, डॉ. स्नेहा द्वारा समाज में बराबरी का दर्जा देने की मांग को प्रोत्साहित किया गया है.

Have something to say? Post your comment
और एंटरटेनमेंट न्यूज़
ताजा न्यूज़
खांसी के साथ खून आए तो हो सकता है लंग कैंसर अपकमिंग फीमेल वोकलिस्ट मिर्ची म्यूजिक अवार्ड्स जीतने से जिम्मेदारियां बढ़ गई है- आकांक्षा शर्मा बॉलीवुड एक आकर्षक दुनिया है और मैं इसे एक्सप्लोर कर रही हूं- शाइमा हॉर्मिलोसा रेस्ट रूम में एम एस धोनी, सुन रहे है सदाबहार गीत 'मेरे मेहबूब' आईपीएल और इंटरनेशनल क्रिकेट परफ़ॉर्मर डीजे रवि कुमार शर्मा उर्फ डीजे रवीश ने दुनिया को अपनी धुनों पर नचा दिया। एच.आर.क्षेत्र में करीब चार हजार नए एचआर की जरूरत - सुज़ैन रयान फिल्म गलतियां के सेट पर मचा ड्रामा, प्रोड्यूसर विनोद दुलगांच और गौरी वानखेड़े के बीच हुई कहासुनी जय ठक्कर, सोनी टीवी के सीरियल "एक दूजे के वास्ते -2" में नज़र आएंगे एक महत्वपूर्ण भोपाली किरदार में हरीश शेट्टी के अंबागोपाल फाउंडेशन नामक कैंसर पहल को बॉलीवुड और राजनीतिक सेलिब्रिटीज ने किया सपोर्ट पीरियड शेमिंग को रोकने की जरूरत है- अलंकृता सहाय नोटोरिअस आउल पिच्चर और गौरव कुमार बजाज के कैलेंडर लॉन्च पर पहुंचे मोहित सूरी अभिनेत्री वेदिका दत्त साकी वटिशी और रायको एजो के लेडीज़ इनवेअर ब्रांड रंगोरी को समर्थन करती आयी नजर
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech