Wednesday, 14 November, 2018
ब्रेकिंग न्यूज़ :
बचपन को लीलता होमवर्क का बोझ - ललित गर्गमलमास के कारण विवाह व मांगलिक कार्य रहेंगे 16 मई से 13 जून तक बंद मोहाली आईटी हब के तौर पर होगा विकसित, स्पेशल टास्क फोर्स तैयार करेगी रोड मैप - सिंगलापंजाब सरकार विपक्षी दलों की आलोचना का जवाब चुनावी वायदे पूरे करके दे रही - आशुरिकवरी करने में लापरवाही करने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी-सुखजिन्दर सिंह रंधावापंजाब सरकार डेयरी उद्योग के लिए नौजवानों को 25 से 33 प्रतिशत देगी सब्सिडी- बलबीर सिद्धूआवास के अनुरूप शेष राशि जमा करें हज यात्रीगलत ढंग से पंचायती जमीन की गिरदावरी करवाने पर प्राईवेट बिल्डर के खिलाफ मामला दर्जमुख्यमंत्री ने पीजीआई जाकर कसौली गोलीकांड में घायल गुलाब सिंह का हाल पूछाहरियाणा सरकार का उद्देश्य प्रदेश की संस्कृति और कला को विश्वपटल पर पहचान देना है – कविता जैन
एंटरटेनमेंट न्यूज़

जीवन में असफल होना कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन खुद को फ़ैल न करें – गुलशायद

November 08, 2018 05:09 PM


“डार्क साइड ऑफ़ लाइफ – मुंबई सिटी” की लीड हेरोइन गुल सय्यद  बताती हैं की फिल्म की  शूटिंग के दोरान उन्हें इस बात का अहसास हुआ की जीवन में असफल हो जाना कोई बड़ी बात नहीं हैं, लेकिन हमें अपने आप में कभी फ़ैल नहीं होना चाहिए. 


फिल्म में गुल का किरदार एक सुपर मॉडल हैं, जो जीवन में हर आशा खो चुकी हैं. अपनी फिल्म के प्रमोशन के दोरान गुल ने मीडिया से बातचित की और फिल्म से जुड़े कई पहलूओं पर रौशनी डाली.

दा डार्क साइड ऑफ़ लाइफ – मुंबई सिटी, एक सवेंदनशील कहानी हैं, जो समाज के कई ज्वलनशील मुद्दे जैसे डिप्रेशन, सांप्रदायिक भाईचारा और मानसिक हेल्थ के बारे में बात करती हैं.

फिल्म में एक डिप्रेस्ड मॉडल का किरदार निभाने के बारे में बात करते हुए गुल बोली की रोल के लिए सही इमोशन लाना बहुत ही मुश्किल काम था.
 “मैं आम तौर पर बहुत ही खुश रहने वाली लड़की हूँ. लोग अक्सर मुझ से पूछते हैं की मेरे इतने खुश और एनर्जेटिक रहने के पीछे कहीं कोई नशा तो ज़िम्मेदार नहीं? लेकिन ऐसा नहीं हैं. मैं एक बहुत ही खुश और ज़िंदादिल इंसान हूँ  लेकिन मेरा किरदार फिल्म में बिलकुल उल्टा हैं. मेरा  किरदार एक बहुत ही सक्सेसफुल मॉडल का  हैं, लेकिन उसकी पर्सनल लाइफ में काफी उथल-पुथल चल रही हैं. और अक्सर लाइफ में भी ऐसा ही होता हैं जब आप लाइफ में बैलेंस नहीं ला पाते हैं, और डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं. मैंने मेरे किरदार जैसे कई लोग अपने जीवन में देखे हैं.

इस किरदार को निभाना आसान नहीं था. शूटिंग के दोरान डिप्रेश रहने के चलते मैं सच में दुखी हो गई थी. घर जाने के बाद भी बहुत बुरी फीलिंग्स आती थी. और इस दोरान मुझे अहसास हुआ की लाइफ में याद रखने के लिए सबसे जरूरी क्या चीज हैं, जीवन में असफल होना कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन खुद को असफल न करें और अपने आप को फ़ैल ना करें।”

डार्क साइड ऑफ़ लाइफ- मुंबई सिटी से गुल बॉलीवुड में अपना बड़ा डेब्यू कर रही हैं. और बताती हैं की वह एक्टर फरहान अख्तर के साथ काम करना चाहती हैं क्योंकि उनकी सिंपल स्टोरीज ने फिल्म जगत को काफी बदला हैं.

अपनी डेब्यू फिल्म के को-स्टार्स  के साथ काम करने के एक्सपीरियंस के बारे में बात करते हुए गुल बोली, “अनफॉर्चुनेट्ली  मुझे महेश भट्ट सर के साथ ज्यादा सीन नहीं मिले लेकिन उन्हें एक्टिंग करते देखना, सच में बहुत ही शानदार अनुभव था. महेश भट्ट को इंडस्ट्री का इतना एक्सपीरियंस हैं की उन्हें ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी, वो बहुत ही नेचुरल हैं. उनके साथ एक फिल्म करने का मौका मिला, यही मेरे लिए सौभाग्य की बात हैं. बाकि सभी लोगो ने बहुत मेहनत और ईमानदारी से काम किया हैं, फिल्म की शूटिंग बहुत ही मजेदार थी”

राजेश परदसानी की फिल्म “दा डार्क साइड ऑफ़ लाइफ- मुंबई सिटी” में बहुत सारी कहानिया एक साथ दिखाई गई हैं.

इस फिल्म में फिल्मकार महेश भट्ट अपना एक्टिंग डेब्यू कर रहे हैं, वह एक पेंटर का किरदार निभाते नजर आयेगे. फिल्म में अवि, निखिल रत्नपारखी, अलीशा सीमा खान, गुल हमीद, नेहा खान, ज्योति मालशे, इरफ़ान हुसैन, आरती पूरी और के के मेनन, मुख्य भूमिकाओ में नजर आयेगे.

फिल्म को तारिक खान ने डायरेक्ट किया हैं, और फिल्म 23 नवम्बर को सिनेमा घरो में रिलीज़ होगी.

 

Have something to say? Post your comment
और एंटरटेनमेंट न्यूज़
ताजा न्यूज़
राजा राम मुखर्जी की फिल्म बेटी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मिली प्रशंसा नशिबवान - नये साल पर भाऊ कदम का तोहफ़ा  जीवन में असफल होना कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन खुद को फ़ैल न करें – गुलशायद पेंडिंग लव में आज की सच्चाई दिखाई गई हैं, लोगो को इसे देखना चाहिए – अजमत खवाजा आप सलवार कमीज में भी शानदार लग सकते हैं – स्माइली सूरी लोगों से मेलजोल बढ़ाने के लिए साउथ के सुपरस्टार पवन कल्याण ने किया ट्रेन से सफ़र हर ‘लव स्टोरी’ की हैप्पी एंडिंग नहीं होती - परी चौधरी विधि कासलीवाल द्वारा बनायी डॉक्यूमेंट्री में सैंड आर्ट के ज़रिये आचार्य विद्यासागर की ज़िंदगी की प्रस्तुति फिल्म उद्योग में मीटू आंदोलन के नकारात्मक असर दिखाई देने लगे हैं - निहारिका रायजादा फिल्म उद्योग में मीटू आंदोलन के नकारात्मक असर दिखाई देने लगे हैं - निहारिका रायजादा अंधाधुन' की कामयाबी से हुई प्रोडक्शन हाउस की नयी शुरुआत दुनिया से पहले, आप खुद को अपनाये और अपनी इज्जत करे – फैजान खान
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech