Friday, 19 April, 2019
ब्रेकिंग न्यूज़ :
दिल्ली में सम्पन्न हुई बालों की समस्याओं के संदर्भ में राष्ट्र स्तरीय कॉफ्रेसमैं पैरेलल और कमर्शियल सिनेमा दोनों के लिए तैयार हूं - अलफीया शेखसमाज सेवा में करियर बनाने का अवसर दे रहा है अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशनहवा बदलो अभियान के तहत आयोजित हुई एक कार्यशालास्कूल देना चाहते हैं गरीबों को शिक्षा, खट्टर सरकार नहीं दे रही गरीबों का हक - कुलभूषण शर्माटोयोटा किर्लोस्कर ने पेश किये क्रिस्टा व फॉरच्यूनर के नये मॉडल13 अप्रैल को दिल्ली में देश भर से जुटेंगे आयुर्वेदिक डॉक्टर और विशेषज्ञJEE Main 2019: NTA के डिजिटल टूल के साथ अपने परीक्षा केंद्र का पता आसानी से लगाएँहार्बी सिंह ने पेश किया नया गाना बदामी रंग5 गाड़ियां जो देती हैं नई महिंद्रा एक्सयूवी 300 को टक्कर
नेश्नल न्यूज़

तीन तलाक पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को केंद्र का बिल नहीं मंजूर

December 24, 2017 09:09 AM

नई दिल्ली - अगर सबकुछ ठीक रहा है तो अगले सप्ताह लोकसभा में केंद्र सरकार तीन तलाक पर बिल पेश करेगी. बिल का मसौदा पहले ही तैयार हो चुका है. सरकार के तीन बड़े मंत्रियों की कमेटी ने ये मसौदा तैयार किया है. इसमें तलाक देने पर 3 साल की सजा का प्रावधान है. वहीं मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस बिल को विरोध किया है. मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तीन तलाक पर बनने वाले कानून को भी मानने के लिए तैयार नहीं हैं. इसी कड़ी में रविवार (24 दिसंबर) को मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने आपात बैठक बुलाई है.

इस बैठक में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य बिल के विरोध में अपनी अगली रणनीति पर बिचार करेगा. सरकार 'द मुस्लिम वीमेन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स इन मैरिज एक्ट' नाम से इस विधेयक को लाएगी. ये कानून सिर्फ तीन तलाक (INSTANT TALAQ, यानि तलाक-ए-बिद्दत) पर ही लागू होगा. इस कानून के बाद कोई भी मुस्लिम पति अगर पत्नी को तीन तलाक देगा तो वो गैर-कानूनी होगा.

इसी साल 22 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर कानूनी करार दिया था. मोदी सरकार इसके लिए काफी लंबे समय से तैयारी कर रही थी. 1 दिसंबर को ड्राफ्ट तैयार कर रिव्यू के लिए भेजा गया था, और 10 दिसंबर तक सुझाव मांगा था. सरकार की मानें तो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी देश में कई तीन तलाक के मामले सामने आए थे. बिल को झारखंड, असम, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों का समर्थन मिला है.

बिल के तहत किसी भी स्वरूप में दिया गया तीन तलाक वह चाहें मौखिक हो, लिखित और या मैसेज में, वह अवैध होगा. जो भी तीन तलाक देगा, उसको तीन साल की सजा और जुर्माना हो सकता है. यानि तीन तलाक देना गैर-जमानती और संज्ञेय ( Cognizable) अपराध होगा. इसमें मजिस्ट्रेट तय करेगा कि कितना जुर्माना होगा. आपको बता दें कि सरकार के इस कदम को लेकर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने 17 दिसंबर को दिल्ली में एक बैठक बुलाई थी. कुछ दिन पहले मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी ने कहा था कि मोदी सरकार तीन तलाक पर जो बिल ला रही है. वह मुस्लिम महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए नहीं, बल्कि एक तरह राजनीतिक स्टैंड है. पीएम नरेंद्र मोदी ने तीन तलाक पर कानून बनाने के लिए एक मंत्री समूह बनाया था, जिसमें राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज, रविशंकर प्रसाद, पीपी चौधरी और जितेंद्र सिंह शामिल थे.

Have something to say? Post your comment
और नेश्नल न्यूज़
ताजा न्यूज़
दिल्ली में सम्पन्न हुई बालों की समस्याओं के संदर्भ में राष्ट्र स्तरीय कॉफ्रेस 5 वजह, कि आखिर क्यों है निहारिका रायज़ादा सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली अभिनेत्री 5 Points Why Niharica Raizada Is The Most Loved Actress एक स्थापित और सनसनी खेज प्रतिभा - अमिका शैल मैं पैरेलल और कमर्शियल सिनेमा दोनों के लिए तैयार हूं - अलफीया शेख समाज सेवा में करियर बनाने का अवसर दे रहा है अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन हवा बदलो अभियान के तहत आयोजित हुई एक कार्यशाला गन पे डन, एक रोमांटिक कॉमेडी है: अभिक भानू Gun Pe Done, A Romantic Comedy About Bootlegging Says Abhik Bhanu   स्कूल देना चाहते हैं गरीबों को शिक्षा, खट्टर सरकार नहीं दे रही गरीबों का हक - कुलभूषण शर्मा टोयोटा किर्लोस्कर ने पेश किये क्रिस्टा व फॉरच्यूनर के नये मॉडल मुक्ता करंदीकर डिजिटल रूप से टॉप ट्रेंडिंग सेलिब्रिटी में से एक बनी
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech