Monday, 11 December, 2017
ब्रेकिंग न्यूज़ :
किन्नरों की जीवनी पर आधारित है फिल्म रक्तधारस्वप्ना पती की फिल्म अंतर्ध्वनि: इनर वौइस् की हुई घोषणायह गुजराती फिल्म निर्माण करने का एक अच्छा समय है: शिजू कटारियाकैंसर के लिए असक्षम लोगों को मिलेगी मुफ्त सर्जरी और किमोथेरेपी : डॉ. मल्होत्राट्यूबलाइट को लेकर विवेक ओबेरॉय ने जताई उम्मीद, कहा- तोड़ेगी बाहुबली-2 का रिकॉर्डमोदी सरकार ने आईएसआईएस को भारत में पैर नहीं जमाने दिया :राजनाथदिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने उपराज्यपाल को लिखा खतईवीएम ओपेन चैलेंज, कोई भी दल नहीं कर सका हैकपैसे लेकर सेना में ट्रांसफर-पोस्टिंग करवाने वाला सेना अधिकारी सीबीआई की गिरफ्त मेंसभी राज्य एक जुलाई से जीएसटी लागू करने पर सहमत
चंडीगढ़ न्यूज़

युद्ध, आतंकवाद का समाधान है भारतीय ज्ञान : आचार्य देवव्रत

November 28, 2016 04:57 PM

चंडीगढ़ - हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि भारतीय ज्ञान परंपरा में विश्व में फैले आतंकवाद युद्ध और हिंसा का समाधान है। यह दर्शन किसी एक व्यक्ति, क्षेत्र या संप्रदाय के बारे में न सोच कर पूरी सृष्टि की चिंता करता है। इसलिए इस विचार में सभी लोगों का सुख निहित है। आचार्य देवव्रत चंडीगढ़ के सेक्टर 37 स्थित लॉ भवन में पंचनद शोध संस्थान के वार्षिक व्याख्यान को संबोधित कर रहे थे।

इस दौरान उन्होंने भारतीय ज्ञान परंपरा का विषद वर्णन किया। उन्होंने कहा कि यह भारतीय ज्ञान परंपरा के कारण ही संभव हो सका कि यहां के मनीषियों ने सृष्टि की उत्पत्ति संबंधी सटीक गणना की है। ऐसी गणना जो आधुनिक वैज्ञानिकों से भी ज्यादा प्रामाणिक है। उन्होंने कहा कि सृष्टि की रचना के साथ ही भारत ने ज्ञान अर्जन का काम शुरू कर दिया था, जो आज तक निरंतर जारी है। उन्होंने कहा कि यह भारतीय ज्ञान परंपरा ही है कि एक सड़क किनारे बोरी पर बैठा सामान्य ज्योतिषी भी दशकों बाद लगने वाले सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण की प्रामाणिक जानकारी दे देता है।

इस मौके पर आचार्य देवव्रत ने धर्म की व्याख्या करते हुए कहा कि हम जैसा व्यवहार अपने लिए चाहते हैं वैसा ही दूसरों के प्रति करें, यही धर्म है। उन्होंने कहां की भारतीय दर्शन के मूल बिंदु अहिंसा, सत्य, अस्तेय, ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह का पालन करने से जीवन में संतुलित और सर्वांगीण विकास को हासिल किया जा सकता है।

इस मौके पर पंचनद शोध संस्थान के मार्गदर्शक एवं देश के जाने-माने शिक्षाविद दीनानाथ बत्रा ने कहा कि देश में भारत का गौरव बढ़ाने वाली शिक्षा व्यवस्था लागू की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि एक षड्यंत्र के तहत पश्चिम विद्वान मैक्समूलर, लार्ड मैकाले और कार्ल मार्क्स ने यहां की शिक्षा प्रणाली को दूषित किया है। उन्होंने कहा कि मैक्समूलर को तो वेदों के अर्थ का अनर्थ करने के लिए प्रति पृष्ठ 5 पाउण्ड मेहनताना मिलता था। श्री बत्रा ने सभागार में मौजूद श्रोताओं से आह्वान किया कि वे शिक्षा में सुधार के लिए अपनी आवाज बुलंद करें।

Have something to say? Post your comment
और चंडीगढ़ न्यूज़
ताजा न्यूज़
“आई एस आई एस – इंसानियत के दुशमन”, दर्शको को आतंकी कैंपो की हकीकत बयां करेगी – युवराज कुमार “टॉयलेट- एक प्रेम कथा” विवाहित महिला पर, तो काशी है एक लड़की की कहानी - तुषार त्यागी फिल्म 'आईएसआईएस - मानवता के शत्रु' आतंकवादी संगठनों के पीछे की सच्चाई को उजागर करेंगी फिल्म 'डैडिस डॉटर' में बेटी के लिए पिता की सोच दर्शाई गयी है: अभिमन्यु चौहान किन्नरों की जीवनी पर आधारित है फिल्म रक्तधार स्वप्ना पती की फिल्म अंतर्ध्वनि: इनर वौइस् की हुई घोषणा यह गुजराती फिल्म निर्माण करने का एक अच्छा समय है: शिजू कटारिया कैंसर के लिए असक्षम लोगों को मिलेगी मुफ्त सर्जरी और किमोथेरेपी : डॉ. मल्होत्रा ट्यूबलाइट को लेकर विवेक ओबेरॉय ने जताई उम्मीद, कहा- तोड़ेगी बाहुबली-2 का रिकॉर्ड मोदी सरकार ने आईएसआईएस को भारत में पैर नहीं जमाने दिया :राजनाथ दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने उपराज्यपाल को लिखा खत ईवीएम ओपेन चैलेंज, कोई भी दल नहीं कर सका हैक
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech