Wednesday, 22 November, 2017
ब्रेकिंग न्यूज़ :
किन्नरों की जीवनी पर आधारित है फिल्म रक्तधारस्वप्ना पती की फिल्म अंतर्ध्वनि: इनर वौइस् की हुई घोषणायह गुजराती फिल्म निर्माण करने का एक अच्छा समय है: शिजू कटारियाकैंसर के लिए असक्षम लोगों को मिलेगी मुफ्त सर्जरी और किमोथेरेपी : डॉ. मल्होत्राट्यूबलाइट को लेकर विवेक ओबेरॉय ने जताई उम्मीद, कहा- तोड़ेगी बाहुबली-2 का रिकॉर्डमोदी सरकार ने आईएसआईएस को भारत में पैर नहीं जमाने दिया :राजनाथदिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने उपराज्यपाल को लिखा खतईवीएम ओपेन चैलेंज, कोई भी दल नहीं कर सका हैकपैसे लेकर सेना में ट्रांसफर-पोस्टिंग करवाने वाला सेना अधिकारी सीबीआई की गिरफ्त मेंसभी राज्य एक जुलाई से जीएसटी लागू करने पर सहमत
टेक्नॉलॉजी न्यूज़

ट्विटर बना बेंगलुरु पुलिस की तीसरी आंख, करोड़ों की ठगी का पर्दाफाश

November 03, 2014 11:38 AM

बेंगलुरु - सोशल मीडिया बेवसाइट कई लोगों के लिए दूसरों से संपर्क बनाए रखना का साधन मात्र है, लेकिन इन दिनों अपराध की रोकथाम में बेंगलुरु पुलिस की यह तीसरी आंख बना हुआ है। बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर एमएन रेड्डी ने अपने साथ-साथ सभी डीसीपी का अकाउंट ट्वीटर पर शरू किया। इसके जरिये कोई भी शख्स अपराध या किसी भी पुलिस अधिकारी के खिलाफ सूचना पुलिस कमिश्नर या दूसरे अधिकारियों को बेखौफ दे सकता है। पुलिस को पिछले हफ्ते किसी ने ट्वीट के जरिये नौकरी का झांसा देकर करोड़ों की ठगी करने वाली एक एजेंसी की जानकारी दी।

 

बेंगलुरु पुलिस के संयुक्त आयुक्त अपराध हेमंत निंबलकर के मुताबिक, इस सूचना के आधार पर जब क्राइम ब्रांच ने शहर के शिवाजी नगर के इस फर्जी जॉब कंसल्टेंसी के दफ्तर पर छापा मारा, तो पाया की यह कंपनी जॉब पोर्टल्स से बेरोजगार युवक युवतियों की जानकारी इकट्ठा कर उनसे 5,000 से 9,000 रुपये वसूलता इस वादे के साथ की देश विदेश की बड़ी आईटी कंपनियों में उन्हे नोकरी दिलवाई जाएगी। पुलिस को यहां एक छोटा टेलीफोन एक्सचेंज भी मिला जिसके जरिये फर्जी इंटरव्यू किया जाता था। यहां से ज़ब्त दस्तावेजों के ज़रिये पता चला की पिछले 3 सालों में इस फर्जी कंपनी ने 13,974 रजिस्ट्रेशन कर तकरीबन तीन करोड़ रुपये ऐंठे, जबकि जिन लोगों ने शोर मचाया उन्हें आधी रकम वापस भी की।

 

वापस की गई कुल रकम 55 लाख रुपये के आसपास है। इस मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि कंपनी का मालिक शब्बीर अहमद अब भी फरार है। इसी तरह शनिवार को एक और ऐसी ही फर्जी कंपनी आरटी नगर में पकड़ी गई, जहां 3 महिलाओं समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जबकि इस कंपनी का मालिक जी सैयद फरार है। इससे पहले बंगलुरु में एक और फर्जी कंपनी पकड़ी गई थी, जो न सिर्फ आईटी की फर्जी एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट बनाती थी, बल्कि आई कार्ड अटेंडेंस कार्ड के साथ साथ एक छोटा सा टेलीफोन एक्सचेंज भी चलाती थी, जिस पर इस कंपनी से जारी जाली सर्टिफिकेट की इन्क्वायरी आने पर जवाब दिया जाता था। ऐसे में अब रोज़गार की तलाश करते लोगों की सबसे बड़ी चुनौती रोज़गार तलाशने के साथ इस बात का पता करना है की कौन सी कंपनी सही है और कौन फर्जी।

Have something to say? Post your comment
और टेक्नॉलॉजी न्यूज़
ताजा न्यूज़
“आई एस आई एस – इंसानियत के दुशमन”, दर्शको को आतंकी कैंपो की हकीकत बयां करेगी – युवराज कुमार “टॉयलेट- एक प्रेम कथा” विवाहित महिला पर, तो काशी है एक लड़की की कहानी - तुषार त्यागी फिल्म 'आईएसआईएस - मानवता के शत्रु' आतंकवादी संगठनों के पीछे की सच्चाई को उजागर करेंगी फिल्म 'डैडिस डॉटर' में बेटी के लिए पिता की सोच दर्शाई गयी है: अभिमन्यु चौहान किन्नरों की जीवनी पर आधारित है फिल्म रक्तधार स्वप्ना पती की फिल्म अंतर्ध्वनि: इनर वौइस् की हुई घोषणा यह गुजराती फिल्म निर्माण करने का एक अच्छा समय है: शिजू कटारिया कैंसर के लिए असक्षम लोगों को मिलेगी मुफ्त सर्जरी और किमोथेरेपी : डॉ. मल्होत्रा ट्यूबलाइट को लेकर विवेक ओबेरॉय ने जताई उम्मीद, कहा- तोड़ेगी बाहुबली-2 का रिकॉर्ड मोदी सरकार ने आईएसआईएस को भारत में पैर नहीं जमाने दिया :राजनाथ दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने उपराज्यपाल को लिखा खत ईवीएम ओपेन चैलेंज, कोई भी दल नहीं कर सका हैक
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech